Maahe Ramdan Karim ka Chand

हज़रत इब्ने-उमर (र) बयान करते हैं कि रसूलुल्लाह ﷺ ने फ़रमाया : तुम रोज़ा न रखो यहाँ तक कि तुम (रमज़ान का) चाँद देख लो और रोज़ा रखना न छोड़ो, ... Read MoreRead More

0 Comments

Maahe Ramdan me har saail ko ataa karna

हज़रत इब्ने-अब्बास (र) बयान करते हैं कि जब माहे-रमज़ान आता तो रसूलुल्लाह ﷺ हर क़ैदी को आज़ाद फ़रमा देते और हर सवाल करने वाले को अता किया करते थे। Mishkat ... Read MoreRead More

0 Comments

Maahe Ramdan ka Rasoolallah ka Khitab

हज़रत सलमान फ़ारसी (र) बयान करते हैं कि रसूलुल्लाह ﷺ ने शाबान के आख़िरी दिन हमें ख़िताब करते हुए फ़रमाया : लोगो ! एक बा-बरकत माहे-अज़ीम तुम पर साया फ़िगन ... Read MoreRead More

0 Comments

Roza or Quran bande ki Shifarish karenge

हज़रत अब्दुल्लाह-बिन-अम्र (र) से रिवायत है कि रसूलुल्लाह ﷺ ने फ़रमाया : रोज़ा और क़ुरआन बन्दे के लिये सिफ़ारिश करेंगे रोज़ा कहेगा अये मेरे रब ! मैंने दिन के वक़्त ... Read MoreRead More

0 Comments

Shaitan or Sharkash Jinno ko Jakad diya jata hai

हज़रत अबू-हुरैरा (र) बयान करते हैं कि रसूलुल्लाह ﷺ ने फ़रमाया जब रमज़ान की पहली रात होती है, तो शैतानों और सरकश जिन्नों को जकड़ दिया जाता है। जहन्नम के ... Read MoreRead More

0 Comments

Rozdar ki Fazilat

हज़रत अबू-हुरैरा (र) बयान करते हैं कि रसूलुल्लाह ﷺ ने फ़रमाया : इब्ने-आदम के हर नेक अमल को दस गुना से सात सौ गुना तक बढ़ा दिया जाता है। अल्लाह ... Read MoreRead More

0 Comments

Pichhle Gunah Muaf

हज़रत अबू-हुरैरा (र) बयान करते हैं कि रसूलुल्लाह ﷺ ने फ़रमाया : जो शख़्स ईमान-व-इख़लास और एहतिसाब के साथ रोज़े रखे तो उसके पिछले गुनाह माफ़ कर दिये जाते हैं। ... Read MoreRead More

0 Comments

Bab Ar Rayyan – Rozdaron ke liye

हज़रत सहल-बिन-सअद (र) बयान करते हैं कि रसूलुल्लाह ﷺ ने फ़रमाया :जन्नत के आठ दरवाज़े हैं। उन में से एक दरवाज़े का नाम रय्यान है। उसमें से सिर्फ़ रोज़ेदार ही दाख़िल ... Read MoreRead More

0 Comments

Ramdan Kareem Me Jannat ke Darwaje Khol diye jate hain

हज़रत अबू-हुरैरा (र) बयान करते हैं कि रसूलुल्लाह ﷺ ने फ़रमाया : जब रमज़ान आता है, तो आसमान के दरवाज़े खोल दिये जाते हैं। और एक रिवायत में है : ... Read MoreRead More

0 Comments

Afzal Sadqa konsa hai ?

Afzal Sadqa woh hai jo kam maal main se taklif utha kar diya jaye Sunan Abu Dawood 1677 50, 100, 200, 500 Rs bhi badi rakam main shamil ho kar ... Read MoreRead More

0 Comments